शनिवार, 9 मई 2009

नेकी कर कुएमे डाल..२ के बारेमे कुछ..

इस पोस्टपे मैंने कुछ और "add" किया है, जो सम्पादन के समय मुझे ज़रूरी लगा॥
ग़लतीके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ..
शमा

3 टिप्‍पणियां:

  1. शमा दी’आपको अभी भी कदाचित ट्रांसलिटरेशन में समस्या है क्योंकि डाल की जगह दाल आ रहा है। अगर कुंए में दाल डाल दी जाए तो तमाम गरीब उस कुंए का पता पूंछ कर रोटी लेकर उसमें कूद पड़ेंगे ताकि दाल-रोटी की न्यूनतम जरूरत पूरी हो जाए
    सादर
    डा.रूपेश श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  2. shamaa ji
    aap ka blog dekha achcha laga.aap ki life sketch padhi kaafi sentimental hai
    aap yun hi likhate rahe
    main vaise vyang(hindi satire ) v geet gazal likhta reheta hoo....achchi ya buri to aap dost log bataayenge ....

    -anand
    akpathak3107@gamil.com

    उत्तर देंहटाएं